तथाचार्य चुरायेंगे राजा कृष्णदेव का ताज

0
538
tenali rama

Tenali Rama जिस तरह से विजयनगर में सबके दिल जीत रहे हैं, उससे ऐसा लगता है
रामा के लिये परेशानियों का अंत नहीं होने वाला है। अपनी बौद्धिक चुनौती के साथ
मोहिनी को हराने के बाद, अब पंडित रामाकृष्णा को पुर्तगाल से आये जादूगार का
सामना करना होगा। उस जादूगर ने अपने कुछ छुपे हुए इरादों के साथ विजयनगर में
प्रवेश किया है।
राजा कृष्णदेवराय को अपने दादाजी की पगड़ी (ताज) मिलती है और राज्य के लोग
राजा को ताज पहनने के उत्सव के साथ उसका जश्न मनाने का फैसला करते हैं। इस उत्सव
में, पुर्तगाल का जादूगर मारकिस डी पोम्पडॉर (विकास वर्मा) पहुंचता है। अपनी
जादूगरी से वह सबको चकित कर देता है। तथाचार्य, मारकिस को चुनौती देते हैं कि वह
कुछ ऐसे करतब दिखाये, जिसे इससे पहले कभी किसी ने नहीं देखा हो। इस बात का
बदला लेने के लिये मारकिस तथाचार्य को सम्मोहित कर देता है और धनी-मनी को बंदर
की तरह हरकतें करने वाला बना देता है। कृष्णदेव राय उसके हुनर से बहुत ही प्रभावित
हो जाते हैं और उसे कुछ आभूषण उपहार में देते हैं। लेकिन जादूगर की कुछ और ही
योजना रहती है। वह तथाचार्य से मिलता है और कृष्णदेव राय का ताज चुराने के लिये
सम्माहित कर देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here