‘तेनाली रामा’ में एक गधे को पढ़ाने की रामा की कोशिश

0
254
Rama teaching the donkey

रामा की बुद्धिमानी और चतुराई से विजयनगर की हर परेशानी का हल करने के साथ दर्शकों को लगातार हैरान करने वाला सोनी सब का ‘तेनाली रामा’ अपने दर्शकों के बीच काफी लोकप्रिय है। विजयनगर को ना जीत पाने से हताश सुल्‍तान (शिवेंद्र) एक बार फिर कृष्णदेव राय को चोट पहुंचाने की कोशिश करता है।

Rama teaches the donkey

कृष्‍णदेवराय (मानव गोहिल) को मारने के प्रयास में पहले भी विफल हो चुका सुल्‍तान एक अन्‍य व्‍यक्ति शरीफा (राम मेहर) को ‘जादुई मणि’ की चुनौती के साथ दरबार में भेजता है। यह मणि (आभूषण) ऐसे धातु से बना है जोकि इंसानी शरीर के संपर्क में आने के 2 घंटे बाद ही पिघल जाता है। शरीफा ने अपना वेश बदल लिया है, वह बड़ा ही भावुक होकर राजा को उस मणि की रक्षा करने के लिये मना लेता और वह खुद उस पर नज़र रखता है कि राजा कब उसकी सुरक्षा करने में असफल हो जाते हैं। कृष्‍णदेवराय उस मणि की सुरक्षा का जिम्‍मा रामा (कृष्‍णा भारद्वाज) को सौंप देते है, क्‍योंकि वह उन पर आंख मूंद कर भरोसा करते हैं। वहीं दूसरी तरफ, सुल्‍तान एक गधे को रामा के पास पढ़ने के कार्य के साथ भेज देता है ताकि वह उसमें उलझा रहे। रामा ही एक ऐसा व्‍यक्ति है जो इस स्थिति को सुलझा सकता है।

रामा की भूमिका निभा रहे कृष्‍णा भारद्वाज कहते हैं, ‘‘रामा के कंधों पर राजा को एक और समस्‍या से बचाने की बहुत बड़ी जिम्‍मेदारी है, लेकिन एक गधे को पढ़ाने के कार्य की वजह से उसका ध्‍यान भटक जाता है। यह सुनने में जितना अजीब लग रहा है, यह दर्शकों के लिये उतने ही ठहाके लेकर आयेगा। इस ट्रैक की, खासतौर से उस गधे के साथ की शूटिंग के दौरान सभी कलाकारों को खूब मजा आया।’’

 कृष्‍णदेवराय की भूमिका निभा रहे मानव गोहिल ने कहा, ‘‘मणि को बचाने की जिम्‍मेदारी वाकई बहुत चुनौतीपूर्ण है, क्‍योंकि कृष्‍णदेवराय उसकी इस खासियत के बारे में नहीं जानते हैं। हमेशा की तरह ही वह रामा पर भरोसा करता है और यह देखना काफी मजेदार होगा कि दोनों मिलकर किस तरह विजयनगर को बचाते हैं। ‘तेनाली रामा’ की पूरी टीम के साथ काम करना हमेशा ही बेहतरीन होता है क्‍योंकि सारे एक-दूसरे से काफी अच्‍छी तरह जुड़ गये हैं।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here